Charles Michel de l Epee कहे जाते हैं Father of Def, Sign Language का किया था अविष्कार

0
59
views

महान हस्तियों को याद करते हुए GOOGLE अक्सर उन हस्तियों से जुड़े Special Doodle बनाता रहता है। इसी कड़ी में उसने Saturday को Father of Def कहे जाने वाले Charles michelle de lep का Birthday मनाते हुए Special Doodle बनाया है। Charles को मुक-बधिरों का मसीहा भी कहा जाता है।

Coolpad M3 China में हुआ Launch, Low Budget में मिलेंगे Great Features

Charles ही वो शख्स थे जिन्होंने मुक-बधिरों के के लिए Sign language का अविष्कार किया था। इनका यह अविष्कार बधिरों और मुक लोगों के लिए वरदान बन गया। इन चिन्ह प्रणाली या इशारों वाली भाषा में इतनी क्षमता होती है कि हम अपनी पूरी बात किसी ना सुन पाने वाले से कह सकते हैं।

Huawei 27 नवंबर को Launch करेगा सबसे भी महंगा फोन

Google ने Charles के 306Th Birthday पर Doodle बनाया है जिसमें मुक-बधिर बच्चे इसी Sign language में बात कर रहे हैं। 24 November 1712 को जन्में Charles Mitchelle एक सुखी संपन्न परिवार से ताल्लुक रखते थे, लेकिन उन्होंने पढाई को छोड़कर The Catholic का रास्ता अपनाया। हालांकि वो यह ज्यादा दिन नहीं टिक सके और लौट आए। Charles का मन हमेशा से गरीबों की मदद के लिए आगे आना चाहता था। वो गरीबों की परेशानियों को कम करना चाहते थे। वो उनके पास जाते। उनसे उनकी तकलीफों के बारे में पूछते और फिर उसे कम करने के लिए कोशिशों में जुट जाते थे।

अगले साल Monaco में दिए जाएंगे Laureus World Sports Awards

Charles Mitchell का जन्म 24 November 1712 को France के Versalis में हुआ था। उन्होंने हमेशा ही मानवता के लिए काम किया। उन्होंने फ्रांस में बहरें लोगों के लिए दुनिया का पहला स्कूल खोला और पूरा जीवन ना सुन पा लेने वाले लोगों के जीवन को सुधारने में लगा दिया।

i3, i5 processor Laptop ko i7 kaise banaye? best computer tricks

Charles के पिता फ्रांस के पास वास्तुकार थे और उनका परिवार काफी संपन्न था। चार्ल्स शुरुआत में Catholic priest के लिए पढ़ाई की लेकिन इंसानियत के लिए उनका दिल हमेशा धड़कता था और वो लोगों के लिए काम करना चाहते थे। बताया जाता है कि एक बार उन्होंने दो बहरी बहनों को आपस में बात करते देखा जिसके बाद उन्होंने सांकेतिक भाषा को बनाया ताकि दो ना सुन पाने वाले लोग भी बात कर सकें।

Android Alpha to Android P: Android version history detail

Also known as: Father of the Deaf

Charles ने 1760 में बहरे व्यक्तियों के लिए स्कूल खोल दिया। उनका मानना था कि इनकी भाषा अलग होनी चाहिए और ना सुनने वालों को भी शिक्षा का पूरा मिलना चाहिए। 77 साल की उम्र में France के Peris  में इनका Death हो गया

Facebook me Fake Profile ko kaise pahchane | Best 10 facebook tricks

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here